Tuesday, 19 June 2018

पढाई कैसे करे - How to study

नमष्कार दोस्तों Apnasandesh.com में आपका स्वागत है। दोस्तों आज के जीवन में शिक्षा को महत्व दिया है। एक कहावत है , पढाई जीवन का आधार है , लेकिन ज्यादातर कुछ नवयुवा छात्रों को पढाई से दिलचस्पी नहीं होती। लेकिन अब आपको इस आर्टिकल के माध्यम से पढाई के आसान और सरल तरीके बताए है। तो अब पढाई करना सीखते है।
पढाई कैसे करे - How to study

अध्ययन करते समय सावधानी बरतें - Take care while studying :

★  पढाई के लिए वातावरण अच्छा होना चाहिए। ताकी जब आप पढाई करोगे उसे आप समज सको, याद कर सखो। पढाई के लिए खाली जगहे हो या जहा आप अकेले मे पढाई कर सको ऐसी कोई जगह हो तो और भी अच्छा है। अगर ना हो ऐसी कोई जगहे तो घर का कोई कोना चुने, ताकी आपको पढाई करते समय कोई तकलीफ ना हो। उसी जगह अपनी पढाई की सामग्री रखे।


★  जीस जगहे आप पढाई करते हो वहा साफ सफाई रखे। पढाई के वस्तु को, किताबो को फैलाके ना रखे। किताबे और सभी सामान अच्छे से लगा के रखे। और एक-दो थोर व्यक्ती के फोटो लगाके रखे। जिसके वजह से आपको प्रेरणा मिल सखे और अगरबत्ती की खुसबु घुमने दो।

★  ऐसे पवित्र वातावरण मे अपने आप आपके मन के नकारात्मक विचार चले जायेंगे। धीरे धीरे पढाई को सुरूवात करो। किस की पढाई कर उसके तरफ ध्यान केंद्रित करो।

★  सोचो आपके सामने एक बडा पत्थर है। आप उसे सरकाने के लिये बहुत प्रयास करागे पर वो पत्थर अपनी जगहे छोडने तैयार नही रहते। आपने प्रयास किये येे तो सही पर आपके हात से कार्य (पत्थर को सरकाने) हुआ नही। ये भी सही है। पत्थर तो बस एक उदा. लिये है।

★  पढाई करते समय आप जल्दबाजी मे पढ लेते है और आपके ध्यान मे कुछ भी नही रहता। यहा पढाई किये है सही, पर पढाई करने का कार्य हुवा ही नही (पत्थर जैसे) ये उसे भी सही है। तब अराम से पढो। जो पढते है उसे आपकी स्मरनषक्ती ग्रहन होती है। उस पे जादा ध्यान रखो। मुख्य मुददो को कागद पे उतारो, पढते समय आपके मन मे प्रष्न आना चहिए और संदेह को हल, समाधान होना चाहिए।

★  थोडे देर पढके किताब निचे रखो, आपने जो पढा उसे याद करके देखो, स्मरन करो, लिख के देखो और भी उत्तम होगा। एक थोर इग्रजी के लेखक नेे (टोरा पढाई) येसे संबोध किया है। नही अच्छा लगता तो कोई बात नही फिर से किताब में देखो।

★  हमेषा पढाई बोर लगती है। लगातार पढाई करने से भीड और निरास होते है। पढाई मे आत्मा निकल जाती है। तब आधा या एक घंटे बाद धीरज रखो। पाच मिनट का आराम लो, आप यहा से वहा थोडा घुमे और आॅंखे बंद करके आराम करो, आप आराम लेने के कारन दो कारण आखो के सामने रखो।

1)  आपको शांत होना है।

2)  आपको फिर पाच मिनट बाद फिरसे पढाई करना है।

यह आर्टीकल जरूर पढ़े.........
AUTOMOBILE  TECHNOLOGY  
   NATURE (  प्रकुर्ती  )

★  इसमे अगर आप बोलने लगे या षिथिल होने लगे बिस्तर पर लेटे रहे तो समय हात से निकल जायेगा। आप बहोत समय तक बाते करना चालु रख सकते हो या निंद मे आवाज कर सकते हो। तब ये पाच मिनट लगातार चलने के व्यायाम करो या आॅंखे बंद करके पालखी मारके बैठो और मेडीटेषन करो उसके वजह से पढाई दो गुना ज्यादा मन लगेगा। पढाई से लगाव बढते जायेगा। प्रयास से लगातार पढाई होगी। आत्मविस्वास बढ़ेगा। आपका उद्देष ये सिर्फ पढाई नही बलकी पढाई करने का नही तो लगातार पढने का है। आपका उद्देष सिर्फ पढाई का न होते हुए उसे परिणामकारक करने का है। आज टि. व्ही. नाम की चिज घरमे आ गई है। ज्यादा टि. व्ही. ना देखे, उससे आखो पर असर होता है। पढाई करते समय टि. व्ही. ना देखे। सो के पढाई ना करे।

पढाई कैसे करे - How to study

★  सेाना ये मानव जाती का अभिन्न अंग है। सरलः मनुश्य को 6 से 8 घंटे निंद आवष्यक है। ज्यादा निंद लेना पढाई के दृश्टी से अच्छा है। एक तो निंद के वजह से उत्साह और षरीर में अच्छा लीगता है। अच्छे से निंद पुरी हुई तो एकदम ताजा लगता है। पढाई करते समय भी ताजा और अच्छा लगता है। एकाग्रता बढती है। उत्साह आता है। दिन मे एक से देड घंटे का आराम मिला तो और भी अच्छा। निंद से सुबह उठ कर योगा भी आवष्यक है। पंधरा मिनिट से आधा घंटा रोज सुबहे योगा करना चाहिए। योगा से षरीर स्वथ्य और तंदुरूस्त रखते आता है। और दिन भर के भागदौड के लिए उर्जा आवष्यक रहती है। वो भी मिल जाती है।


★  पढाई करते समय जल्दी-जल्दी पढने की कोषीस करे, जब आप न्युज पेपर या फिर मासिक पढते होंगे तब पढते समय जल्दी-जल्दी पढने की कोषिस करे ज्यादा से ज्यादा एक मिनट में तीन सै से ज्यादा षब्द पढो। जल्दी पढना भी एक कला है।

★  पढते समय विराम चिन्ह को नजर अंदाज करे। जो चिन्ह का महत्व नही है उसे ना देखे। पढते समय आखाॅं के को कम से कम समय चालु बंद करे। पुरा वाक्य एक साथ पढे। पढने की गती उपर के पध्दत का उपयोग करोगे तो बहोत बढीया। या आप एक मिनिट मे हजार षब्द भी पढ सकते हो।

★  इस वजह से ओर पढाई पढाई को भी ज्यादा से ज्यादा समय मिलेगा। बुध्दी तेज करने के लिए लसून, आवला, हिरडा और बडी सेफ खाने के लिए उत्तम रहेगा। पढाई भुलने लगे तो उसे याद रखने के लिए मदत होती है।

★  परिक्षा के दिनो मे जादा जागरन नही करना। उसका आपके षरीर पर परिणाम होगा और परिक्षा पर भी होगौ परिक्षा देने जाते समय आधे घंटे पहले कुछ भी खाना नही। और भोजन भी ना करे नही तो पेपर पर असर होगा।

★  परिक्षा घर मे प्रवेष करने के बाद थोडा समय आराम करे, आॅख बंद करके ज्ञान करो पेपर हात मे आते बराबर जल्दबाजी ना करे। पहले अच्छे से प्रष्नपत्रिका को पढे। फीर जो प्रष्न आते है उसे पहले लिखे।

★  आत्मविष्वास पुर्वक परिक्षा मे आगे बढे। सफलता आपकी ही है।

★  अभी तक जो हम देखते आए है वो सुरुवात से लेके परिक्षा तक का युग है। पुरे प्रयास से, आत्मविष्वस से चढते गये उसे महेनत जिद्द, से विद्यार्थी अवष्य सफलता के सिखर पर हा-हा करके चढ जयेगे। एक या दो सफलता के श्रृखला तयार किए बीना रहे नही पायेंगे। पढाई करो और यष की हिमषिखर चढो।



यह भी जरुर पढ़े

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें