Wednesday, 13 June 2018

वाहन Maintenance ( रखरखाव ) बनाए रखें इस तरह - Maintain vehicle maintenance like this

नमष्कार दोस्तों Apnasandesh.com में स्वागत है। जब हम कोई नई गाड़ी ( Vehicle ) खरीदते है, तब उसका maintenance करना जरुरी है। नहीं तो वाहनों की लाइफ कम हो सकती है। या सर्विसिंग का खर्चा बढ़ जाता है।  नई वाहन ( New Vehicle ) के साथ सर्विस हैंड बुक मिलती है। इस Hand Book में वाहनों के भाग और Maintenance के बारे में जानकारी होती है। वाहनों में दिए हुए Hand Book का उपयोग कर समय समय पर वाहनों का Maintenance ( देखभाल ), सर्विसिंग करने पर वाहन की सर्विस अच्छी होती है। दोस्तों कुछ दिन पहले हमने इस वेबसाईट पर वाहनों की सर्विसिंग कैसे करे यह जाना है। आज हम इस आर्टिकल में डिझेल इंजिन वाहनों  के Maintenance ( देखभाल ) और सर्विसिंग कैसे करे यह जानने वाले है।
vehicle maintenance

निवारक रखरखाव - Preventive Maintenance :

Preventive Maintenance याने वाहनों के ठराविक किमी Running के पहले की जाने वाले कार्यो की प्लानिंग है। जब हम कोई नई वाहन की बात करे तो सुरुआत के 500 To 1000 किमी Running के बाद, और 1000 To 4000 किमी, 8000 To 16000 किमी , 32000 To 64000 किमी Running के बाद वाहनों की सर्विसिंग और Maintenance कैसे किया जाए और वाहनों को नुकसान से कैसे बचाए जाए यह जानते है।


वाहनों की सुरुआती 500 To 1000 किमी Running देखभाल कार्य :-

नई मोटर वाहन अन्यथा नई इंजिन फिटिंग वाली वाहन को शुरुआती के 2000 किमी Running तक वाहन को Carefully चलाए।याने इंजिन की Life अछि होती है। शुरुआती के दिनों वाहन की Speed 50 किमी के ऊपर नहीं होना चाहिए।
vehicle maintenance
यह आर्टीकल जरूर पढ़े.........
AUTOMOBILE  TECHNOLOGY  
   NATURE (  प्रकुर्ती  )

वाहनों की 1000 To 4000 किमी Running देखभाल कार्य :- 

वाहनों की Life को सफल बनाने के लिए Hand Book का उपयोग कर वाहनों के Maintenance अच्छे से कर सकते है। 2000 से 4000 किमी अंतर पार कर वाहनों की जांच करना अनिवार्य है। जिससे वाहनों के रखरखाव अच्छे से होगा और वाहन अच्छा कार्य करेगा।


वाहन Maintenance ( रखरखाव ) बनाए रखें इस तरह - Maintain vehicle maintenance like this :

◙  वाहन को अछे से धोके कॉटन क्लॉथ से पोछे।

◙  इंजिन ऑइल गरम होने पर निकाले और अच्छे ग्रेड का ऑइल डाले।

◙  इंजिन ऑइल फ़िल्टर की सफाई कर , फ़िल्टर एलिमेंट ( कार्टिज ) And '' O '' रिंग बदले। अच्छे ग्रेड का ऑइल भरे और फ़िल्टर को फिक्स करे।

◙  Gear Box, Transmission Case, Rear Axle, Front Axle के अंदर ऑइल गरम हो तो ऑइल बदले और अछे ग्रेड का ऑइल भरे।
vehicle maintenance

◙  एअर फ़िल्टर की सफाई करे , और Oil Measuring यूनिट पर दिए हुए लेवल तक ऑइल भरे।

◙  गर्म इंजिन होने पर Cylinder Head Nut दिए हुए क्रमांक पर निश्चित करे।

◙  Battery Mounting, Battery Port, Cable Terminal आदि  सफाई करे और डिस्टिल Water की level Check करे।


◙  इन भोगो के Nut - Bolt जांच करे। 

Engine Foundation, Oil sump bolt या drain plug, Delivery valve, Induction pressure pipe, Exist muffler, rear axle U - bolt spring, Staring box mounting bolt, Starter motor mounting bolt, Wheel nut, आदि।

◙  इन भागो को ग्रीस लगाए। 

King pins, Tyre Rod Ends, Drag link Ends, Staring Knuckle Joint, Clutch Pedal, Break Pedal, Front एंड Rear Spring, Propeller Shaft Yoke, Universal Joint, Propeller Shaft Center Bearing, Hand Break . आदि।
vehicle maintenance

◙  Clutch Pedal Free-Play तपासे, Staring Wheel Free-Playजांचे, और कम होने पर निश्चित करे।

◙  Fuel Tank और फ़िल्टर की जांच कीजिए।

◙  Break लाइनर की जांच कीजिए।

◙  शॉक अबझारबर और बुश की जांच कीजिए। Bush काम में नहीं तो उसे Change कीजिए।

◙  Battery Electrolyte Hydrometer के माध्यम से Check कीजिए।

◙  लगातार Tyre Pressure की जांच कीजिए।

◙  Vehicle को ज्यादातर छाँव में रखिए। और धुप  बचने के लिए आवरण ( Cover ) का उपयोग करे।


यह भी जरुर पढ़े

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें