Friday, 29 June 2018

सी. एन. जी. क्या है - What Is CNG

वाहनों में कई प्रकार के इंधन उपयोग करते है। जैसे पेट्रोल, डिझेल अन्य प्रकार के इंधन से वातावरण में लेड, सल्फर, बेन्झाल आदि घटकों से विषारी वायु आते है। वैसे ही द्रवपदार्थ इंधन जलने के बाद वातावरण ( प्रकृति ) में नायट्रोजन Oxide ( NO₂ ) और Volatile Organic Components यह घटक की सुर्यप्रकास के प्रभाव से रासायनिक प्रक्रिया होकर ओझेन प्रत के Surrounding में प्रदुषणकारी घटक निर्माण होते है। मोटर वाहन के बढ़ते अभावी कारण से, होने वाले प्रदुषण, और इंधन की बढ़ती Cost आदि का विचार कर भारत सरकार ने सन 1988 में LPG ( Liquefied Petroleum Gas ) और CNG ( Compressed Natural Gas ) इंधन उपयोग में लाने का विचार किया। कुछ समय बाद LPG के उपयोग में अभावी प्रदुषण के कारण दिल्ही सरकार ने सन 2001 में CNG इंजिन पर चलने वाले वाहनों का दावा किया।
सी. एन. जी. क्या है - What Is CNG

सी. एन. जी. क्या है - What Is CNG

सी. एन. जी. ( Compressed Natural Gas ) एक नैसर्गिक गैस है। सी. एन. जी. का स्वज्वलन तापमान 730⁰ सें.ग्र. इतना है। वायु का Molecular Weight ( आणविक वजन ) 29  है तो सी. एन. जी. का Molecular Weight ( आणविक वजन ) 16 इतना है। इसलिए यह गैस वायु से हलकी है तो उपयोग में सुरक्षित है। इस वायु से वातावरण में, जमीन, या जल में कोई प्रदुषण नही होता। अगर गलती से भी यह लीकेज है तो यह वातावरण के वायु में Easily Mix होता है। इसलिए जलने का कोई डर नही होता।


सी. एन. जी. गैस में अन्य प्रकार के घटक होते है :-

मीथेन
Methane
91.9 %
कार्बनडाय ऑक्साईड
( CO )
2.0 %
I ब्यूटेन
Butane
0.4 %
N प्यूटेन
Putane
0.2 %
N ब्यूटेन
Butane
0.2 %
इथेन
Ethane
3.7 %
प्रोपेन
Propane
1.2 %
I पैंटेन
Pentane
0.2 %
नायट्रोजन
Nitrogen
0.2 %
वातावरण के वायु में अगर सी. एन. जी. का प्रमाण 5.3 to 15 % इतना होगा तो वह ज्वलन होगा। कुछ कारणों से एल. पि. जी. , पेट्रोल व डिझेल इंधन पर चलने वाले वाहनों से सी. एन. जी. इंधन पर चलने वाले वाहन सुरक्षित है। अन्य इंधन उपयोग करने वाले वाहन के तुलना में सी. एन. जी. का उपयोग करने वाले वाहन में कार्बन मोनोक्साइड का प्रमाण  40 to 70 % कम है। वैसे ही सी. एन. जी. में सल्फर व लेड का आभाव होने के कारण नायट्रोजन Oxide का प्रमाण 85 % व रिअक्टिव्ह हायड्रोकार्बन 70 % से कम है। सी. एन. जी. के वायु को कोई दुर्गंध और किसी प्रकार की स्मेल नही होती। सी. एन. जी. का इस्तेमाल करने वाली टैक्सी 18 की. मी. / की. ग्र. इतना Distance चलती है तो पेट्रोल पर चलने टैक्सी 10 की. मी. / लीटर इतना Distance चलती है।
For Example : 15 की. ग्र. सी. एन. जी. के साथ सिलेंडर में मारुती 800 झेन - 350 किमी.इतना तो सिएलो - 200 किमी. इतना चलती है।

सी. एन. जी. उपयोग करने के लिए आवश्यक घटक - Essential components for using CNG

पेट्रोल इंजिन के मुख्य Fuel Line Supply System में किसी प्रकार की छेड़छाड़ न करते हुए स्वतंत्र किट का उपयोग एल. पि. जी. या सी. एन. जी. का उपयोग पेट्रोल के बदले कर सकते है। वैसे सिएलो या अस्ट्रा इन वाहनों में स्वतंत्र Fuel Injector किट का प्रकार इस्तेमाल करते है।


सी.एन.जी. किट में इन घटकों का समेत है।

➞ गैस सिलेंडर - Gas cylinders

➞ हिटिंग पैड - Hitting Pad

➞ फ़िल्टर - Filters

➞ Pressure  गेज असेम्बली -  Pressure Gage assembly

➞ इलेक्ट्रोनिक स्विच - Electronic switch

➞ गैस सोलेनोइड - Gas Solenoid

➞ पेट्रोल सोलेनोइड - Petrol Solenoid

➞ मिक्सर - Mixer

यह आर्टीकल जरूर पढ़े.......
AUTOMOBILE  TECHNOLOGY  
 ELECTRICAL  TECHNOLOGY  
सी. एन. जी. गैस वाहनों में इस प्रकार कार्य प्रणाली करती है 

➢  वाहन के पिछले हिस्से में Petrol tank के बाजु में गैस सिलेंडर लगाया जाता है।

➢  सिलेंडर में 15 की. ग्र. गैस भरी होती है।

➢  सिलेंडर के आगे वाले इस्से में Hitting Coil फिट की होती है। इसके माध्यम से सिलेंडर को हीट प्रदान की
      जाती है इसलिए सिलेंडर में से योग्य प्रमाण में गैस दिया जाता है।

➢  गैस Cylinder Outlet pipe के ऊपर Filters और Pressure Gage assembly फिट की होती है।

➢  सिलेंडर के अंदर का गैस का दबाव Pressure Gage में दिखाया जाता है।

➢  सिलेंडर से बहार निकलने वाली गैस की सफाई Filters के माध्यम से होती है।

➢  वाहन के इंजिन कॉम्पोनेन्ट में बोनेट निचे गैस सोलेनोइड फिट किया होता है।

➢  गैस सिलेंडर से फ़िल्टर से आने वाले गैस पाइप यह गैस सोलेनोइड को जोड़ते है।

➢  कार्ब्युरेटर के एक साइड में Petrol solenoid और दुसरे साइड Mixer व Pressure reducer Vaporizer फिट
      किया होता है।


यह आर्टीकल जरूर पढ़े.........
यह भी पढ़े ☛ What is interest?
यह भी पढ़े ☛ How to practice Tally?
यह भी पढ़े ☛ Introduction to the Economic Environment
यह भी पढ़े ☛ नर्सरी का व्यवसाय कैसे करे
यह भी पढ़े ☛ मशरूम की खेती कैसे करें


➢  गैस solenoid से उष्ण सी. एन. जी. के वहन प्रथमतः Vaporizer व Mixer में होता है।
➢  Mixer का आउटलेट पाइप यह कार्ब्युरेटर से जोड़ा होता है इसलिए कार्ब्युरेटर के माध्यम से गैस Cylinder
      पुराया जाता है।

➢  Driver component में Steering wheel के पास Electronic switch फिट किए होती है जिसके माध्यम से
     Fuel supply या सी. एन जी फ्यूल सप्लाई सिस्टम कार्य करती है।

सी. एन. जी. किट उपयोग करते समय इस प्रकार करे देखभाल 

∎  सी. एन. जी. किट खरीदते सयम उच्च कंपनी मानक की इस्तिमाल करे।

∎  किट के जोड़नी के लिए अलग अलग वाहन में विशिष्ठ प्रकार के तंत्र उपयोग में लाए जाते है इसलिए किट
     लगाते समय अधिकृत और अच्छे मैकेनिक से काम करवाए।

∎  गैस सिलेंडर वाहन में लगाने या फिटिंग के बाद सिलेंडर और पाइप कनेक्शन सावधानी से जाच कर
     लीजिए।

∎  वाहन के पिछले हिस्से में ( डिक्की ) सामान रखते समय सावधानी से रखे।

∎  सी. एन. जी. किट फिटिंग के बाद वाहन में सभी प्रकार के इलेक्ट्रोनिक साधनो की अच्छी तरह जाच
     कीजिए।

∎  डिझेल इंजिन में सी. एन. जी. किट की कीमत 30000 to 40000 और पेट्रोल इंजिन में सी. एन. जी. किट की
     कीमत 12000 रूपए साधारणता इतनी है।

हालांकि बढ़ते ईंधन लागत और प्रदूषण के विकल्प के रूप में सौर ऊर्जा पर चल रहे स्वचालित वाहनों का उपयोग, वाहन सार्वजनिक उपयोग में अभी तक उपयोग नहीं किया गया है।


यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें