Wednesday, 21 November 2018

जंगल को कैसे बचाए - How to save the forest

जंगल को कैसे बचाए - How to save the forest, जंगल को कैसे बचाए, पेड़ को बचाए, प्रकृति के बारे में जानकारी, प्रकृति को कैसे बचाए, जंगल है तो जीवन है, जंगल बचाने के tips.

पेड़ का मतलब है जल, जल का अर्थ है रोटी और रोटी का अर्थ है जीवन। क्योकि मनुष्य और वन्य जिवो तक सभी की जरुरत जंगल से पूर्ति होती है। जमीन और पानी एक प्रकृति की देन है, जो सजीवों को जीवन प्रदान करती है। साथ ही जंगलो से प्राणवायु निर्माण होता है जो प्रकृति का अमूल्य खजाना है।

जंगल को कैसे बचाएं - How to save the forest

बिल्डिंग कंस्ट्रक्शन (Building Construction) के लिए पेड़ तोडना, रस्ते बांधकाम के लिए जंगलों और अन्य वन संसाधनों को तोडना, बिजली उत्पादन, खनिज उत्पादन, आदि वनों की कटाई का कारण बन रहे है। बढ़ती आबादी की बढ़ती मांग, तेजी से औद्योगीकरण और बांधों का निर्माण साथ ही सिंचाई के लिए जमीन नष्ट हो रही है।

वर्तमान दुनिया में लोगों को ऑक्सीजन प्रदान करने वाले वन अपने अस्तित्व को संरक्षित रखने के लिए संघर्ष कर रहे हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि यदि जल्द ही उन्हें बचाने के लिए प्रभावी उपाय नहीं किए जाते हैं, तो ग्लोबल वार्मिंग (Global warming) जैसी समस्याएं भविष्य में दिखाई देगी। जीवित रहने के लिए एक व्यक्ति को उसके चारों ओर 16 बड़े पेड़ों की जरूरत होती है। वैज्ञानिकों (Scientists) का कहना है कि भूमि का एक-तिहाई जंगल होना जरुरी है, जबकि भारत के Official data के मुताबिक देश के लगभग 23 प्रतिशत जंगलों में पेड़ हैं, लेकिन कुछ Report से पता चलता है कि भारत का केवल 11 प्रतिशत भाग पर जंगल हैं। तो, यह काफी गंभीर समस्या (Serious Problem) है जो सजीव प्राणी के लिए चिंताजनक है। जंगल को कैसे बचाए - How to save the forest



जंगल को कैसे बचाएं - How to save the forest :

जंगल बचाने का कार्य असल में पुरातन वर्ष से होते आ रहा है। जंगल बचाने की शुरुआत तब शुरू हुई जब प्राचीन शिकारी और भटकते लोगो ने देवराई की परंपरा शुरू की। देवराई परंपरा याने वन सवर्धन जिसमे वनो की पूजा की जाती है। पुरातन वर्ष से अनेक राजा महाराजाओने वन सवर्धन के लिए बहुत योगदान किए। ब्रिटिश कालीन वर्ष में जांगलो की मालकी ''सरकारी'' हो गई और जंगलो के व्यवस्थापन व उपयोग के लिए स्वतंत्र वानखाते निर्माण किए गए।

वर्ष 1980 में भारत सरकार ने जंगलो के बचाव के लिए ''संयुक्त वन व्यवस्थापन'' (Joint Forest Management) समिति निर्माण हुई थी। जंगलो को बचाने के लिए भारत सरकार ने पर्यावरण और वन मंत्रालय इनको सोपा है। साथ ही सभी राज्यों में एक स्वतंत्र वन विभाग है जो पर्यावरण नियंत्रण के लिए उपयोगी है। भारत में वन सवर्धन के लिए अनेक कायदो का निर्माण हुआ है, सन 1927 में भारत वन कायदा या सन 1980 में वन संरक्षण कायदा।

यह भी जरूर पढ़े :
बरगद के पेड़ के गुणधर्म और लाभ
✯ जल और मिट्टी को कैसे बचाएं
✯ पर्यावरण संबंधी परेशानियाँ
✯ उल्टी पर करें घरेलु उपचार

UNEP (United Nations Environment Programme) संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम के अनुसार, 50-70 लाख हेक्टेयर भूमि दुनिया में बंजर हो रही है, जबकि भारत में 60 प्रतिशत कृषि भूमि और 75 प्रतिशत आकर्षित भूमि गुणात्मक गिरावट में परिवर्तित हो रही है। भारत में, पिछले 9 सालों में कुल 2.79 लाख हेक्टेयर वन क्षेत्र का विकास हुआ, जबकि कुल वन क्षेत्र 6,90,8 99 वर्ग किलोमीटर है। वर्तमान समय में पर्यावरण को बचाने के लिए वन संवर्धन बहुत ही महत्वपूर्ण है।


भारतीय वन्यजीवन - Indian wildlife :

भारत में वन्यजीवन अलग अलग जगह विविध भागो में शामिल है। जैसे जंगली गधा, भारतीय One horn amethyst , गवा, शेर, बाघ आदि सभी प्रकार के प्राणी दुनिया में अधिकतर भारत में पाए जाते है।

विभिन्न कारणों से वन्यजीवन का अस्तित्व नष्ट हो रहा है।

∎ कृषि और खनिज उत्पादन के कारण वन्यजीव का आवास नष्ट हो रहा है।

∎ ऐसे कई विकासों के लिए, औद्योगिक आधारभूत संरचना, सड़कों, रेलवे, बंदरों जैसे अन्य बुनियादी ढांचे के कारण वनों को नष्ट किया जा रहा है, जिसके कारण वन्यजीवन नष्ट हो गया है।

∎ अपने उपयोग के लिए वन्य जीव को शिकार करके वन्यजीवन नष्ट किया जा रहा है। यही कारण है कि जंगली जानवर कम हो रहे है।

भारत में वन्यजीव संरक्षण - Wildlife conservation in India :

पुरातन वर्ष से भारत में वन्य जीवन बचाने के लिए कई सारी प्राचीन परंपरा है। वनो की पूजा करना, वनोत्सव मनाना, शिकार वनो को अभयारण्य में बदलना, या राष्ट्रिय उपवन तैयार करना।

सामाजिक - व्यक्तिगत स्तर पर वन संरक्षण का प्रयास

► जंगलो की कटाई कम करना,

► वन्य जिव तथा वन का संरक्षण,

► वन संवर्धन जनजागृति,

► वनो में शिकार के लिए सामाजिक प्रतिबंध, आदि।


सरकारी स्तर पर वन संरक्षण का प्रयास

► अभयारण्य और राष्ट्रिय वन का विकास,

► वनो के बचाव के लिए कायदो का नियमित पालन करना,

► हर जगह वन संवर्धन सल्लागार समिति का निर्माण करना,

► वन संवर्धन जनजागृति कार्यक्रम, आदि।

पर्यावरण संरक्षण और पर्यावरण सुरक्षा - Environmental protection and environmental protection :

पर्यावरण संरक्षण और सुरक्षा सही तरीके से हासिल की जा सकती है। कोई भी व्यक्ति अपने अंदर थोड़ी इच्छा रख सकता है और पर्यावरण को कुछ सुरक्षा और संरक्षण दे सकता है। पर्यावरण संरक्षण और जलवायु परिवर्तन ने पूरी दुनिया को प्रभावित किया है। इस समस्या को दूर करने के लिए पूरी दुनिया को एक होना चाहिए।

यह भी जरूर पढ़े :
प्राकृतिक रूप से अस्थमा को कैसे दूर करे
✦ बबूल के गुणधर्म और लाभ
✦ प्रदूषण के परिणाम
✦ प्रदूषण क्या है


◪ आज के समय में, हर किसी के पास पर्यावरण की देखभाल करने और विशेष रूप से भविष्य की पीढ़ियों को बचाने के लिए जिम्मेदारी और अधिकार होना चाहिए, पर्यावरण की सुरक्षा बहुत महत्वपूर्ण है।

◪ किसी भी अन्य वस्तु के तहत पुनरावृत्ति होनी चाहिए जो कांच से बना है और अब उपयोगी नहीं है। इसके अलावा, पुराने समाचार पत्र, बुरे कागजात, कार्डबोर्ड इत्यादि सभी की पुनरावृत्ति नहीं होनी चाहिए। इससे पर्यावरण बचा सकते है और प्रदुषण भी कम हो सकता है।

जंगल को कैसे बचाएं - How to save the forest

◪ जल ही जीवन है। स्वच्छ और ताजा पानी समय के साथ अधिक से अधिक मूल्यवान हो रहा है और यदि हम इसे अभी तक बचाने के लिए कुछ भी नहीं कर रहे हैं, तो भविष्य में पानी सोने से ज्यादा मूल्यवान होगा। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि हम इसे बचाने और पानी के प्रदूषण को रोकने के लिए जो भी कर सकते हैं, उसे अधिक प्रयास के साथ करना चाहिए।

◪ पेड़ ऑक्सीजन का सबसे बड़ा स्रोत हैं और हम उन्हें बढ़ाने के बजाय उन्हें काटते हैं। अगर हर व्यक्ति ने एक पेड़ लगाया, तो जीवन में काफी सुधार होगा। हवा शुद्ध हो जाएगी, पेड़ों की संख्या सामान्य हो जाएगी, प्रदूषण, ग्लोबल वार्मिंग और ग्रीनहाउस जैसे प्रभाव कम हो जायेंगे। जंगल को कैसे बचाए - How to save the forest

घास भूमि क्षेत्र का महत्व - Importance of grassland area :

घास एक सपुष्प वनस्पति का प्रकार है, जो सभी जगह पाया जाता है। इसका सर्वश्रेष्ठ लाभ भूमि को सुपीक बनाना है। भूमि के ऊपरी हिस्से में घास के रूट नेटवर्क जमीन को सुपीक बनाकर हवा को चलाने में मदद करता है।

घास भूमि क्षेत्र कम होने के कारण क्या है ?

बढ़ती आबादी कारण अपनी जरुरत पूरी करने के लिए घास भूमि क्षेत्रों का नाश हो रहा है।

घास के मैदानों को बेकार के रूप में वर्णित करके जमीन पर खनन और खुदाई करना।

अनियमित चराऊ जानवरों की बढ़ती संख्या

रस्ते बांधकाम के लिए घास भूमि क्षेत्रों का उपयोग,


ऐसे अन्य कारणों से घास भूमि क्षेत्रों का विनास हो रहा है। इसका सीधा परिणाम पर्यावण में दिखाई देता है।

पर्यावरण - संरक्षण के कुछ अन्य उपाय : 
✜ जितना हो सके पैदल चलने का प्रयास करे इससे आप निरोगी रह पाएंगे। 
✜ सभी लोग पेड़ो का रोपण करे और उनका संरक्षण करे। 
✜ जल का उपयोग योग्य कामो के करे और जल का संरक्षण करे। 
✜ प्लास्टिक का उपयोग ना करे। 
✜ जैविक खाद्य का इस्तेमाल करे। 
✜ प्रदुषण कम करे।  
✜ बिजली की बचत। 
✜ बिना काम के वस्तु को टिकाऊ बनाने का प्रयास करे इससे पर्यावरण संरक्षण में लाभ हो सकता है। 
जंगल को कैसे बचाएं - How to save the forest

जंगल हमारे जीवन का अमूल्य खजाना है, जो हमारे पर्यावरण के साथ-साथ आर्थिक, औद्योगिक और सामाजिक स्थिति को बनाए रखने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। मानव समुदाय को जंगलों से कई मूल्यवान चीजें मिलती हैं। स्वच्छ पानी, जंगली प्राणियों, लकड़ी, भोजन, फर्नीचर, कागज, सुंदर परिदृश्य और कई पुरातात्विक और ऐतिहासिक स्थलों के रहने के लिए जगहें शामिल हैं। जंगल को कैसे बचाए - How to save the forest



पेड़, कार्बन डाइऑक्साइड अवशोषित और ऑक्सीजन जारी करते हैं, जिसके लिए मानव जाति को सांस लेने की आवश्यकता होती है। एक पेड़ अपने पूरे जीवन के दौरान प्रकृति और मनुष्यों को कई फायदे देता है। पेड़ भी तापमान नियंत्रण में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। इसलिए, लोगों को अधिक से अधिक पेड़ रोपण करना चाहिए।

धन्यवाद।
यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें