Sunday, 9 December 2018

रोग निदान करने वाले वैद्यकीय उपकरण : Clinical Medical Equipment

किसी बीमारी का निदान करने के लिए वर्तमान युग में यंत्र याने Machine का इस्तेमाल किया जाता है। इसका मतलब है कि Machine से उस बीमारी को पहचानकर उसे वैज्ञानिक तरीके से हटाया जाये।

रोग निदान करने वाले वैद्यकीय उपकरण : Clinical Medical Equipment

वर्तमान युग में बढ़ती हुई बीमारी पर निदान के लिए Machine यंत्र के उपयोग से गंभीर बीमारियों में आधुनिक स्वास्थ्य विज्ञान में सही निदान एक महत्वपूर्ण माध्यम है। आने वाले दिनों में संभव है की वैद्यकीय सुविधा में मानव अधिक से अधिक यंत्र सामग्री से शस्त्रक्रिया ( ऑपरेशन ) कर के रोगो का निदान कर सकते है। 

किसी भी समस्या के बाहरी लक्षणों से शुरू होकर, इसके मूल (उत्पति के) के कारण का ज्ञान करना और उसे दूर करना इसे एक प्रकार का रोग निदान भी कहा जाता है। निदान बहुत महत्वपूर्ण है, जब तक रोग की सटीक पहचान संभव नहीं है, तब तक सही दिशा में उपचार असंभव है। इसलिए, पुराने आयुर्वेदिक ग्रंथों में निदान के बारे में सटिक पहचान बताई है। 



यह सच है कि कई बीमारियां स्वचालित या प्राकृतिक रूप से अच्छी हो जाती हैं। लेकिन ऐसी कई बीमारियां हैं जिनमें प्रकृति अक्षम है और फिर चिकित्सा के सहायता की आवश्यकता है। निदान को सही करने के लिए सही और सटीक उपचार आवश्यक है। सही निदान का अर्थ है कि दर्दनाक लक्षणों के अंतर्निहित कारण और इसके द्वारा उत्पन्न विकृति को सही तरीके से नष्ट जिया जाये।

रोग निदान करने वाले वैद्यकीय उपकरण : Clinical Medical Equipment


क्ष - किरण ( X-ray ) यंत्र :

एक्स-रे एक किरण है जो आंखों को दिखाई नहीं देती है। इन किरणों में वस्तुओं को घुमाने की क्षमता होती है। साधारण प्रकाश किरणें पतली कागज और कपड़े के माध्यम से गुजरती हैं। हालांकि, प्रकाश किरणों की मोटाई पूरी तरह से कागज द्वारा अवरुद्ध है। लेकिन एक्स-रे इस से अधिक penetrating है। कागज, कागज, कपड़ा त्वचा, आदि की पतली परत बाधाओं में प्रवेश कर सकती है और इससे आगे जा सकती है।

एक्स-रे ताकत बढ़ाने के कारण हड्डी की तरह पदार्थों को घुमाया जा सकता है। इस सिद्धांत का उपयोग कर एक्स-रे आरेख तैयार किया गया है। त्वचा, मांस, हड्डी, हवा, और एक्स-रे की घनत्व की शक्ति और घनत्व अलग-अलग हैं। शरीर के हाड टूटे होंगे तो उसका शोध क्ष - किरण यंत्र के सहाय्यता से पता किया जाता है।

एक्स-किरणों के क्षैतिज पक्ष पर रखी गई तस्वीरें इन भागों की विभिन्न तस्वीरें ले सकती हैं। आम लोगों की भाषाओं में इसे 'Photo निकालना' भी कहा जाता है।

अल्ट्रासोनोग्राफी ( Ultrasonography ) यंत्र :

इस यंत्र के द्वारा अतिसूक्ष्म ध्वनि तरंगों के साहयता से शरीर के हर एक पार्ट की परछाई तैयार करके संगणक के प्रजेक्टर पर दिखाए जाते है और उसके द्वारा रोग निदान किया जाता है।

सिटी स्कैन ( CT Scan ) यंत्र :

सीटी स्कैन एक विशेष प्रकार का परीक्षण है जो एक्स-रे और कंप्यूटर का उपयोग करके किया जाता है और इस परीक्षण में, हम शरीर में कुछ अंगों की एक तस्वीर बनाते हैं। और यह शरीर के बीमारी को आसानी से पता लगता है। सीटी स्कैन को कंप्यूटरीकृत अक्षीय टोमोग्राफी के रूप में भी जाना जाता है। 

वैसे, सीटी स्कैन एक्स-रे का एक रूप है लेकिन यह इससे थोड़ा बेहतर है। इसके माध्यम से शरीर के अंगों की तस्वीर बहुत अच्छी तरह से देखी जा सकती है। सीटी स्कैन का आविष्कार स्वतंत्र रूप से सर गॉडफ्रे हंसफील्ड और डॉ एलन कॉर्मैक द्वारा ब्रिटिश सरकार द्वारा विकसित किया गया था। यह सोनोग्राफी ज्यादा प्रगट होकर इसमें शरीर के अतिसूक्ष्म भागो की छेदचकत्या की परछाई संगणक के पर्देपर लिया जाता है और उसके द्वारा रोगनिदान किया जाता है।



एम.आर.आई ( MRI ) :

इस यंत्र में चुम्बकीय अनुस्पदन का उपयोग परछाई निर्मिति के लिए किया जाता है। इस यंत्र में चुम्बकीय तरंग शरीर के रक्तकोशिकाएं, मेंदु के दोष इसके चित्रण करके अंदर के दोषो का शोध लगाते है।

लैप्रोस्कोपी ( Laparoscopy ) :

लैप्रोस्कोपी एक प्रकार की शल्य चिकित्सा है जिसमें शरीर के निचले भाग (पेट या गर्भाशय) में एक छोटा सा कट शामिल होता है। इस कट के माध्यम से, शरीर में एक पतली ट्यूब डाली जाती है जिसमें कैमरा रखा जाता है। इस कैमरे से शरीर के अंदर देखा जा सकता है और शस्त्रक्रिया किया जाता है।

डायलिसिस ( Dialysis ) :

इसके सहायत्ता से मूत्रपिंड निकामी होने के बाद खून का शुद्धिकरण किया जाता है। डायलिसिस रक्त शुद्धिकरण का एक कृत्रिम तरीका है। 

इस डायलिसिस की प्रक्रिया तब शुरू की जाती है जब किसी व्यक्ति का गुर्दे या गुर्दा ठीक से काम नहीं कर रहा हो। गुर्दे की बीमारियों से संबंधित रोग, दीर्घकालिक मधुमेह रोगियों, उच्च रक्तचाप आदि को कभी-कभी डायलिसिस की आवश्यकता होती है।

ईसीजी ( ECG ) :

इस यंत्र के माध्यम से ह्रदय के स्पंदन का आलेक निकला जाता है।

ऑजिओ कार्डिओ ग्राफ़ी ( Ozio cardio graphy ) :

इस यंत्र के सहायता से ह्रदय को रक्तपुरवठा करने वाले रक्तकोशिकाओंका आलेख निकला जा सकता है।


इलेक्ट्रो एन फेलोग्राम ( Electro en Felogram ) :

इस यंत्र के माध्यम से फिट्स और मेंदु को आने वाले झटको को विकार सम्बन्ध में मेंदू के आलेख निकलना शक्य हुआ है।

मनोग्राफी ( Manography ) :

इस यंत्र के द्वारा स्तनोको कैंसर के निदान करना शक्य हो गया है।

होल्यीयम प्रोटोक्रामि :

इसके माध्यम से किसी भी प्रकार के शस्त्रक्रिया करके किडनी में से स्टोन निकला जाता है।

बायोप्सी :

इस शब्द का अर्थ शरीर के रोगग्रस्त पेशिका टुकड़ा निकाल कर उसका चेकअप करना होता है। बायोप्सी एक ऐसी प्रक्रिया है जिसमें प्रयोगशाला में शरीर से ऊतक या कोशिकाओं के नमूने परीक्षण किए जाते हैं। बायोप्सी शरीर में कुछ प्रकार की बीमारियों के निदान के लिए किया जाता है

व्हेसेकोटॉमी ( Vasectomy ) :

यह पुरषो पर करने वाली नसबंदी शस्त्रक्रिया है। यह vasectomy प्रक्रिया किसी भी अन्य तरीके से बेहतर रोकता है।

यह भी जरूर पढ़े :
ट्यूबकटॉमी ( Tubectomy :

यह स्त्रियों पर करने वाली नसबंदी शस्त्रक्रिया है। इसे ट्यूबल नसबंदी के रूप में भी जाना जाता है, ट्यूबटेमी महिलाओं में गर्भनिरोधक का स्थायी तरीका है। 

यह एक शल्य चिकित्सा प्रक्रिया है जिसमें गर्भाशय तक पहुंचने से अंडाशय से निकले अंडे को रोकने के लिए फैलोपियन ट्यूब का एक हिस्सा अवरुद्ध किया जाता है।

संबंधित कीवर्ड: 
रोग निदान करने वाले वैद्यकीय उपकरण : Clinical Medical Equipment, मशीन द्वारा बीमारियों का उपचार- Treatment of diseases by machine, भारत में चिकित्सा उपकरण विकसित किए जा रहे हैं- Medical equipment are being developed in India, 



दोस्तों, शरीर के रोग निवारण के लिए ( रोग निदान करने वाले वैद्यकीय उपकरण : Clinical Medical Equipment) यदि आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगता है, तो निश्चित रूप से इस लेख को आप अपने दोस्तों एवं परिचितों के साथ साझा करें।
                                                                                                                         Author By : सविता...
यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

Popular Posts