Monday, 17 December 2018

क्रोध को नियंत्रित करने के उपाय - Measures to control anger

नमष्कार दोस्तों, apnasandesh.com में आप सभी का स्वागत है। मेरा नाम पूनम है, इस वेब साइट पर यह मेरा पहला post है। आज मै इस आर्टिकल में मनुष्य के जीवन में क्रोध तथा गुस्सा करने पर क्या परिणाम होते है, इस बारे में जानकारी दे रही हु। उम्मीद करती हु की यह आर्टिकल आपको पसंद आए।

क्रोध को नियंत्रित करने के उपाय - Measures to control anger

गुस्सा आना यह मनुष्य जीवन का एक स्वाभाविक गुण है, लेकिन क्रोध को नियंत्रित करना भी कोई बड़ी बात नहीं। क्रोध यह इंसान के जीवन का हिस्सा है। पुरातन युग में कहा गया है की, राजा महाराजाओ ने गुस्से पर काबू के लिए अलग एक घर बनाकर रखे थे। अगर रानी को गुस्सा आया तो वह उस घर में जाकर बैठ जाती थी, और महाराज उन्हें मनाने जाते थे।

ऐसेही गुस्सा जताने के लिए ऐसी कोई जगह बना सकते है क्या ? हम्हे भी राजा महाराजाओ की तरह अपने प्लॉटरूपी रजवाड़ो में ऐसी एक जगह बनानी चाहिए। और उसका नाम गुस्सा तथा क्रोध का कमरा रखना चाहिए। छोड़िये, दोस्तों यह एक मजाक की बात है, लेकिन सच में, क्रोध शरीर को नुकसान ही पहुंचाता है।

गुस्सा आने पर हमारे शरीर को तो नुकसान होता ही है, लेकिन हम ने जिस किसी व्यक्ति या इंसान पर गुस्सा निकाला है, उसेके भी मन में परेशानी होती है।


क्रोध को नियंत्रित करने के उपाय - Measures to control anger :

➥ संगीत में जैसे भूप, यमन, मालकंस, भैरवी ऐसे क्रोध के प्रकार है. उसी तरह हमारे मन के गुस्से के भी प्रकार होते है, मतलब अगर ज्यादा गलती हो तो वहा पर ज्यादा गुसा। गुस्सा आने के परिणाम उस व्यक्ति के रिश्ते को भी दूर कर देता है।

➥ अगर हमारे सामने हमारे भाई बहिन होते उनपर हम अलग तरिके का गुस्सा करते है, वही अगर हमारे घर का कोई सदस्य हो वहा हम अलग गुस्से को व्यक्त करते है। जिस तरह एक माँ अपने बच्चो को डाटती है, तब वह अलग तरीके से डटती है, उस गुस्से में माँ का प्यार भी कहते है।

➥ क्रोध दो लोगो के बिच में दरार लाता है। क्रोध में आदमी निर्णय लेनेसे हमेशा गलत फैसला लेता है। क्रोध में लिए हुए निर्णय का परिणाम हमेशा गलत या फिर विपरीत या फिर दु:ख दायक होता है।

➥ लेकिन क्रोध के मुद्दे भी आपके जीवन में समस्याएं पैदा कर सकते हैं, जो तुरंत स्पॉट करना आसान नहीं हो सकता है। दुर्भाग्यवश, यह कपड़े धोने की विधियों की एक पूरी सूची है कि क्रोध आपके जीवन और आपके आस-पास के लोगों के जीवन पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है।

क्रोध से शरीर और प्रकृति के वातावरण में बदलाव :

क्या आपको कभी लगता है कि आपका गुस्सा नियंत्रण से बाहर हो रहा है? क्या आपको गुस्सा होने पर शांति बनाने में परेशानी होती है? आप इन भावनाओं को कैसे व्यक्त करते हैं? यदि क्रोध आपके जीवन में एक सामान्य समझ है, तो संभव है कि आप अपने आप को और दूसरों को अनुचित तरीके से नुकसान पहुंचा रहे हों।

अप्रबंधित क्रोध से जुड़ी छोटी और लंबी अवधि की स्वास्थ्य समस्याओं में से कुछ में शामिल हैं जैसे,

सरदर्द, पाचन दर्द, जैसे पेट दर्द, अनिद्रा, चिंता बढ़ी, डिप्रेशन, उच्च रक्त चाप , एक्जिमा जैसी त्वचा की समस्याएं, दिल का दौरा, आघात।


क्रोध का नतीजा बुरा भी हो सकता है या नहीं हो सकता है, लेकिन यह गुस्सा करने वाले व्यक्ति के लिए बुरा है। क्रोध को सबसे बड़ा दुश्मन माना जाता है। इस वजह से, संबंध अक्सर टूट जाते हैं। इसलिए, क्रोध सही समय पर नियंत्रित किया जाना चाहिए।

जब क्रोध होता है, ऐसे मस्तिष्क में ऐसे रासायनिक तत्व बनते हैं, जिनका शरीर और दिमाग पर बुरा प्रभाव पड़ता है।

➣ आंखें लाल हो जाती हैं और दिल में जलन हो सकती है।
➣ रक्तचाप बढ़ता है।
➣ आक्रामक भावनाएं उत्पन्न होती हैं।
➣ सोच-सोच की शक्ति कमजोर हो जाती है।
➣ तनाव बढ़ता है।

निरंतर क्रोध के कारण, पाचन तंत्र कमजोर है, जो अम्लता, कब्ज, भूख की कमी जैसी बीमारियों का कारण बन सकता है।

क्रोध को दूर करने के कुछ तरीके :


पवित्रशास्त्र कहता है कि क्रोध केवल माफी से जीता जा सकता है। यही है, हमें क्षमा करने वाले लोगों के गुण को अपनाना चाहिए।

क्रोध को दूर करने के लिए धैर्य और समझ रखना बहुत महत्वपूर्ण है। जब भी क्रोध आता है, तो कुछ भी बोलने से पहले, इसे रोकने से धैर्य रखें, इस बारे में सोचें कि आप क्या कहने जा रहे हैं या क्या करेंगे और इसका नतीजा क्या होगा।

क्रोध के बारे में हमेशा सावधान रहें। अपने क्रोध के कारणों को समझें और उनसे बचने की कोशिश करें।

जब भी क्रोध आता है, तो मिश्री मुंह में रखी जानी चाहिए। चूंकि चीनी कैंडी पिघल जाती है, तो क्रोध भी खत्म हो जाएगा।


क्रोध को कैसे नियंत्रित करें :

आप अन्य लोगों या परिस्थितियों को बदल नहीं सकते जो आपको परेशान करते हैं लेकिन आप निश्चित रूप से अपने आप में बदलाव करने की कोशिश कर सकते हैं।

आपको यह भी लगता है कि जब आप गुस्सा हो जाते हैं, तो एक शक्तिशाली और अप्रत्याशित चीज़ आपको पराजित करती है, जो आपको नुकसान पहुंचाती है, इसलिए इसे हावी होने न दें।

क्रोध अनियंत्रित होने से पहले, यह ज्ञात है कि क्रोध अनियंत्रित होने जा रहा है, और यदि आपको लगता है कि इसे नियंत्रित करने के लिए कदम उठाया गया है, तो क्रोध को अनियंत्रित होने से रोका जा सकता है।

 क्रोध के यह संकेत हो सकते हैं :

➢ चेहरा लाल होना,
➢ सांस तेज हो जाना, 
➢ सरदर्द,
➢ दिल की धड़कन बढ़ाना, 
➢ कंधे कठोर हो जाना, आदि। 

क्रोध को नियंत्रित करने के लिए हर दिन ध्यान किया जाना चाहिए :

➣ कभी-कभी, आस-पास का वातावरण जलन और क्रोध का कारण बन जाता है। समस्याएं और जिम्मेदारियां आपको गुस्सा करने लगती हैं और आपके आस-पास के लोग जाल में शामिल होने लगते हैं। इस तरह के वातावरण में ब्रेक लेना फायदेमंद हो सकता है। अपने लिए थोड़ा निजी समय ले लो।

➣ अनदेखा करने का तरीका जानें। यदि आप बच्चे के कमरे को देखने के बाद नाराज हो जाते हैं तो दरवाजा बंद करें। आपको क्या गुस्सा आता है यह देखने का क्या फायदा है ? यह सोचना गलत है कि बच्चों को कमरे को सही रखना चाहिए ताकि मैं नाराज न हो। सवाल आपके बच्चों का नहीं है। आपको किसी तरह से शांत रहना होगा।

➣ यदि आप यातायात के कारण गुस्सा हो जाते हैं, तो एक और तरीका ढूंढें या बस, कार, ट्रेन इत्यादि खोजें।

➣ मस्तिष्क में कुछ भी कहने के लिए जल्दबाजी नहीं होनी चाहिए। आपको ध्यान से बात करनी चाहिए और ध्यान से सोचना चाहिए। साथ ही, जो लोग बोल रहे हैं उन्हें भी ध्यान से सुनना चाहिए।

➣ रात में, पति पत्नी किसी भी बिंदु के लिए एक गुस्से में विवाद का सामना करती है। यह दिन की थकावट या घर या कार्यालय के तनाव के कारण हो सकता है। ऐसी स्थिति में, महत्वपूर्ण चीजों को करने का समय बदला जाना चाहिए।

अंत: क्रोध ये मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन है, क्रोध यह स्वतः एवं दुसरो को भी नुकसान पहुँचता है, इसीलिए क्रोध पर नियंत्रण रखे।


यदि सभी उपायों का प्रयास करने के बाद भी, यदि आपको लगता है कि आप गुस्से पे नियंत्रण नहीं कर रहे हैं, और इसके कारण, आपका परिवार, व्यवसाय या कार्यालय संबंध तोड़ने के कगार पर है, तो आपको तुरंत एक अच्छे मनोवैज्ञानिक से परामर्श लेना चाहिए। वे आपकी सोच और व्यवहार को बदलने के तरीकों को बता सकते हैं, जो आसानी से आप के क्रोध को शांत कर सकते हैं।

धन्यवाद।

                                                                                                        Author By : Poonam Mam....
यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

Popular Posts