Monday, 17 December 2018

ऑनलाइन कोई भी जानकारी इंटरनेट से कैसे प्राप्त करे

नमस्कार दोस्तों, आज हम बात करेंगे की इंटरनेट पर Information का आदान प्रदान कैसे होता है। मतलब कैसे भजि जाती है और कैसे प्राप्ति की जाती है वह आज हम इस आर्टिकल से सीखेंगे।

ऑनलाइन कोई भी जानकारी इंटरनेट से कैसे प्राप्त करे

आज के युग यह Computer का युग है। दुनिया में इंटरनेट का उपयोग बहोत हो रहा है। लगभग सभी काम इंटरनेट में मद्यम से किये जा रहे है। दुनिया में हर एक क्षेत्र में इंटरनेट का उपयोग बड़ी संख्या में हो रहा है। तो चलिए हम हम बात करते है की , इंटरनेट पर Information कैसे भेजी जाती है।


इंटरनेट पर जानकारी कैसे प्राप्त करें - How to get information on the Internet : 

इंटरनेट पर लाखो करोडो की संख्या में कम्प्यूटर जुड़े होते है। ये सभी कम्प्यूटर मनचाही Information नेटवर्क के जरिये प्राप्त कर सकते है। इन Information को Server ( Information भेजने वाला कम्प्यूटर ) द्वारा टेलीफोन लाइन, केबल लाइन आदि द्वारा Client ( Information प्राप्त करने वाला कम्प्यूटर ) को भेजा जाता है। Information को भेजने से पहले उसको छोटे-छोटे पैकेटो में बाटा जाता है ये काम Server द्वारा किया जाता है। इन पैकेटो में कुछ Information , कुछ Source- ID ( Information जहा से भेजी जाती है वहा का कोड ) तथा Destination- ID (Information जहा भेजनी है वहा का कोड ) आदि Information का समावेश होता है।

Information पैकेट क्या है ? 

पैकेट के मुख्य तीन भाग होते है।

➤ Header :-  

पैकेट के इस भाग में Source-ID तथा Destination- ID का रिकार्ड रहता है।

➤Data :- 

पैकेट के इस भाग में भेजनेवाली Information होती है। पैकेट में किस साइज की फाइल जायेगी यह तय करता है।

➤Trailer :- 

पैकेट के इस भाग में Data भेजने तथा प्राप्त करने का कोड लिया जाता है। पैकेट को भेजने वाला कम्प्यूटर ( Server ) से एक कोड नंबर Client वाले कम्प्यूटर पर आता है। पहले यह कोड नम्बर चेक किया जाता है। यदि Server का कोड प्राप्त करने वाले Client कम्प्यूटर से नहीं मिलता है तो समझा जाता है की Information भेजने के दौरान कोई गड़बड़ी हुई है तथा पैकेट में Information को फिर से रिकॉल किया जाता है।

Information प्राप्त करने में Modem का क्या उपयोग है :-

Server द्वारा टेलीफोन लाइन भेजी गई Information Analog फॉर्म में होती है। उस Analog Form की Information को Digital फॉर्म में बदलने का कार्य modem करता है। क्योकि डिजिटल फॉर्म की Information यूजर के लिए समझने योग्य होती है। Client के कम्प्यूटर पर आते ही data को modem द्वारा Digital फॉर्म में बदल दिया।


Information प्राप्त करने में ब्राऊझर का उपयोग :-

जब हम किसी वेबसाइट से Information प्राप्त करते है तो वहा HTML भाषा ( Hyper Text Markup Language ) में होती है तथा वह पढ़े जाने योग्य नहीं होती है।

ब्राउजर उन Information को HTML कोड को सही रूप देकर पढ़े जाने योग्य बनता है है। और इस तरह Server से डाटा लोड होने के बाद उसको पढ़े जाने योग्य बनाने का काम ब्राउजर करता है।

ब्राउज़र के उदाहरण : 

Google क्रोम - 

यह एक निःशुल्क वेब ब्राउज़र है जिसे Google द्वारा बनाया गया है। इसे सितंबर 2008 में जारी किया गया था, जो केवल माइक्रोसॉफ्ट विंडोज में चलाया गया था। उसके बाद यह लिनक्स, मैक, आईओएस आदि के लिए बनाया गया था।

मोज़िला फ़ायरफ़ॉक्स - 

यह मोज़िला फाउंडेशन द्वारा डिज़ाइन किया गया एक मुक्त ओपन सोर्स सॉफ्टवेयर है। हम इसे विंडोज, मैक, लिनक्स, आदि ऑपरेटिंग सिस्टम में उपयोग कर सकते हैं।

सफारी - 

सफारी ऐप्पल कंपनी द्वारा बनाई गई एक वेब ब्राउज़र है। इसे 2003 में निकाला गया था, इससे पहले यह केवल मैक में उपयोग हो रहा था लेकिन आजकल हम इसे विंडोज़ में भी इस्तेमाल कर सकते हैं।

इंटरनेट एक्सप्लोरर - 

यह माइक्रोसॉफ्ट कंपनी द्वारा बनाया गया ब्राउज़र है, इसे 1995 में बनाया गया था। इस ब्राउजर को विंडोज 7 में विंडोज एड्रॉइड के साथ एड-ऑन के रूप में लॉन्च किया गया था।


Information भेजने में ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम :-

जब नेटवर्क से कई कम्प्यूटर जुड़े होते है तब बहुत बार डाटा डाउनलोड करने के लिए इंतजार करना पड़ता है। जिस तरह एक टेलीफोन से एक समय में दो जगह बात नहीं की जा सकती, उसी तरह एक संचार से एक ही समय में दोअलग कम्प्यूटर पर Information प्राप्त नहीं की जा सकती।

एक नेटवर्क पर कई कम्प्यूटर जुड़े होने के कारण कई बार एक साथ कई कम्प्यूटर से डाटा डाउनलोड करने की Request Server पर आती है।

इस समस्या को टोकन सिस्टम से हल किया जा सकता है। इस सिस्टम में जिस कम्प्यूटर को सूचना लेनी होती है वह नेटवर्क से टोकन प्राप्त करता है। बिना टोकन के कोई भी Client कम्प्यूटर Information प्राप्त नहीं कर सकता है। जब टोकन वाला कम्प्यूटर, Server कम्प्यूटर से उसको डाटा भेजता है। तब डाटा मिलाने के बाद Client कम्प्यूटर अपना टोकन Server कम्प्यूटर को वापस देता है। टोकन के वापस आते ही, Waiting वाले कम्प्यूटर उस टोकन को चुन लेता है और Server को डाटा भेजने की Request भेजते है।

यह सारी प्रक्रिया बहुत तेजी से होती है, जैसे की प्रकाश की गति। इस प्रकार यह टोकन सिस्टम नेटवर्क से जुड़े सभी कम्प्यूटर को Information उपलब्ध करवाती है।

Tags :-  Technology, Technical Study, Online job, Future Tech, Internet, Online Study, Computer, Health, Science . 

संबंधित कीवर्ड: 
इंटरनेट पर Information भेजना-प्राप्त करना, Information पैकेट क्या है, Information प्राप्त करने में Modem का क्या उपयोग है, Information भेजने में ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम, Information प्राप्त करने में ब्राऊझर का उपयोग। 


दोस्तों, उम्मीद है की आपको ऑनलाइन कोई भी जानकारी इंटरनेट से कैसे प्राप्त करे यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगता है, तो निश्चित रूप से इस लेख को आप अपने दोस्तों एवं परिचितों के साथ साझा करें। और ऐसे ही Technical रोचक आर्टिकल की जानकारी प्राप्ति के लिए हमसे जुड़े रहे।

धन्यवाद।
                                                                                                                  Author By : टेकचंद सर ....

यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें