Sunday, 9 December 2018

प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत - Principle of reflection of light

नमष्कार दोस्तों, हमारे साईट apnasandesh.com में आपका स्वागत है। आज हम इस लेख में प्रकाश के बारे में जानने वाले है।

 प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  -  Principle of reflection of light

प्रकाश का विद्युत चुंबकीय तरंग ( Electromagnetic Wave ) सिद्धांत, प्रकाश के कुछ गुणों की व्याख्या कर पाता है। जैसे प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  ( Principle of reflection of light ), प्रकाश का अपवर्तन ( Refraction of Light ), प्रकाश का विंवर्तन ( Diffraction of Light ).

हम हर रोज देखते है की हमारे पास प्रकाश होता है, जिससे हम सभी चीजे साफ़ - साफ़ देखा सकते है। फिर भी सवाल गिरता है की हम तभ अपने आखो से सबकुछ देख सकते है। लेकिन रात के अँधेरे में क्या हम खुली आँख से देख सकते है ? नहीं न, बिलकुल सही, हम नहीं देख सकते। क्योकि हमे देखने के लिए आखो की नजर के साथ - साथ प्रकाश की भी जरुरत होती है। तो दोस्तों आइये जानते है प्रकाश के बारे में।


यह भी जरूर पढ़े :
✯ जल और मिट्टी को कैसे बचाएं
✯ पर्यावरण संबंधी परेशानियाँ
✯ उल्टी पर करें घरेलु उपचार
✯ जंगल को कैसे बचाए


प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  -  Principle of reflection of light 

प्रकाश एक प्रकार की ऊर्जा है, जो विद्युत चुंबकीय तरंगो के रूप में संचारित होती है। इसका ज्ञान हमे आखो से प्राप्त होता है। इसका वेग 3×10⁸ mtr/sec. का होता है। अगर हमे पूछा जाये की किस मीडियम में प्रकाश का वेग ज्यादा होता है, तब हमारा जवाब वायु या वैक्यूम में रहेगा।

प्रकाश का वेग ( Speed of Light ):

प्रकाश के वेग की गणना सबसे पहले रोमर ने की थी। वायु तथा निर्माण में प्रकाश की चाल सबसे अधिक होती है। प्रकाश की चाल माध्यम के अपवर्तनांक ( 𝓾 ) पर निर्भर करता है। जिस माध्यम का अपवर्तनांक जितना अधिक होता है, उसके प्रकाश की चाल उतनी ही अधीक होती है।

( 𝓾 = c/𝓾, जहा, 𝓾 = माध्यम की चाल, c = निर्वात में प्रकाश की चाल )

✦ प्रकाश को सूर्य से पृथ्वी तक आने में औसत 8 मिनिट 16. 6 सेकंड का लगभग समय लगता है।

✦ चंद्रमा से परावर्तित प्रकाश को पृथ्वी तक आने में 1. 28 सेकंड का समय लगता है।

∎ प्रदीप्त वस्तुए ( Luminow Bodies ) ;-  वे वस्तुए जो स्वयः के प्रकाश से प्रकाशित होती है। उदा. सूर्य, विद्युत, बल्ब आदि।

∎ अप्रदिप्त वस्तुए ( Non - Luminous Bodies ) :-  वे वस्तुए जिनका स्वयः का प्रकाश नहीं होता है लेकिन उनपर प्रकाश डालने से वे दिखाई देते है। उदा.मेन आदि।


∎ पारदर्शक वस्तुए ( Transparent Bodies ) :-  वे वस्तुए जिसमे से होकर प्रकाश की किरणे निकल जाती है। उदा. काँच, जल आदि।


∎ अर्थपारदर्शक वस्तुए ( Transparent Bodies ) :-  वे वस्तुए ऐसी होती है जिन पर प्रकाश की किरणे पड़ने पर उनका कुछ भाग तो अशोषित होता है, तथा कुछ भाग बाहर निकल जाता है। उदा. तेल लगा हुआ कागद आदि।
 प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  -  Principle of reflection of light

प्रकाश का परावर्तन - Reflection of light :

प्रकाश के चिकने पुष्ट ( Polishing Body ) से टकराकर वापस लौटने की घटना को परावर्तन कहते है। परावर्तन के मुख्य दो नियम है।

✱ आपतन कोण ( Incident Angle )

✱ आपतन किरण ( Incident Ray )


आपतित कोण ( Incident Angle ) :- यह कोण परावर्तन कोण ( Reflection Angle ) के बराबर होता है।

आपतित किरण ( Incident Ray ) :- आपतन बिंदु पर अभिलंब व परावर्तित किरण ( Reflection Ray ) एक ही तल में होते है।

आइये दोस्तों जानते है, क्या होती है आपतित किरण और परावर्तित किरण इसके बारे में।

 प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  -  Principle of reflection of light

i : Incident Angle 

r : Reflected Angle 

<i = <r 




 प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  -  Principle of reflection of light
यह भी जरूर पढ़े :
❃ योग और घरेलू उपचार के साथ पाचन शक्ति बढ़ाएं
❃ प्रकृति में है, सभी बीमारियों का उपचार
❃ एक्यूप्रेशर का सिद्धांत क्या है
❃ दिमाग का परिचय



प्रकाश का अपवर्तन ( Reflection of light ) :

जब प्रकाश की किरणे एक पारपर्थी माध्यम से दूसरे पारपर्थी माध्यम में प्रवेश करती है, तो दोनों माध्यमों को अलग करने वाले लस पर अभिलम्बित आप्पति होने पर बिना मुड़े सीधे निकल जाती है। परन्तु तिरछी आपत्ति होने पर वे अपनी मूल दिशा से विचलित हो जाती है। इस घटना को प्रकाश का अपवर्तन कहा जाता है।

Reflective Index :

हर एक चीज का एक Reflective Index होता है, जिससे हमे प्रकाश की गति पता चलती है जैसे काँच का Reflective Index है 1. 33 वैसे ही प्रकाश की वॉक्यूम में गति 3 lac km / sec होती है। अब हम प्रकाश की गति को काँच के Reflective Index से गुणोंतर करें तो हमे काँच में प्रकाश की गति का पता चल जाता है।

उदा.

300000 / 1. 33 = 225563 km / sec

तो काँच में प्रकाश की गति है 2. 25 lac km / sec

विभिन्न माध्यमों से प्रकाश की चाल

 माध्यम 

 प्रकाश की चाल ( m / s )
 निर्वात 
3 × 10 ⁸
 काँच 
2  × 10 ⁸
 पॉलिस तेल 
2.04 × 10 ⁸  
 फ्यूल 
2. 25 × 10 ⁸ 
 रॉक साल्ट 
1. 96 × 10 ⁸ 
नाइलोन 
1. 96 × 10 ⁸ 

संबंधित कीवर्ड: 
प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत  ( Principle of reflection of light ), प्रकाश का अपवर्तन ( Refraction of Light ), प्रकाश का विंवर्तन ( Diffraction of Light ), विद्युत चुंबकीय तरंग ( Electromagnetic Wave ) . 


 प्रकाश के परावर्तन का सिद्धांत - Principle of reflection of light के पहले लेख में हमने आपको बताया परावर्तन के बारे में, आशा करते है की यह लेख आपको पसंद आया होगा। इसका दूसरा लेख जल्द ही प्रकाशित करेंगे तब तक के लिए हमारे apnasandesh.com से जुड़े रहे।

धन्यवाद।

                                                                                                                   Author By : Sachin sir ....

यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

Popular Posts