Thursday, 3 January 2019

कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation

नमस्कार दोस्तों, आपका हमारे साइट apnasandesh.com में स्वागत है। आज हम नए टॉपिक के साथ आये है, जिसका नाम है Communication and it Explanation.

कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation

Communication यह एक हमारे जीवन का बहोत जरुरी मुद्दा है, हम अपनी बात किसी के सामने रखते है तो ना सिर्फ हमारे बातो का, बल्कि हमारे Body Language का भी इम्प्रेशन आगे वाले व्यक्ति पर होना चाहिए। और इसको हम सादरीकरण ( Explanation ) बोलते है। सादरीकरण का महत्व आपने महसूस किया होगा, उसका बहोत ही बढ़िया उदा. LIC Agent है। जो व्यक्ति LIC लेने में कुछ भी दिलचस्पी नहीं रखता ऐसे व्यक्ति को भी LIC Agent उस व्यक्ति को अपने कौशल्य से मना लेता है, और सिर्फ इसी काम से अपना आर्थिक स्थिति को संभल लेता है। वैसेही, दुनिया का सबसे लोकप्रिय बिजनेस Network Marketing यह भी सिर्फ ओर सिर्फ Communication और Explanation Skill से ही नेटवर्क बना पाता है।


कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है - What is the importance of communication and explanation :

बड़े बड़े नेता लोक देखिये, अपने भाषणों से हर एक व्यक्ति के मन को जित लेते है। उनको पता होता है की लोगो के मन में जगा बनाना है तो हमारी Communication Skill अच्छी चाहिए। और इसी Formula को Apply करते हुए नेता लोक लोगो का मन जित लेते है, और सरकार बनाते है।

किसी भी Success Professor व्यक्ति को देखिये, उसके Communication Skill और किसी चीज को Explanation करने की Skill इतनी अच्छी होती है की, किसी भी Motivation Program में उनका उदाहरण दिया जाता है या उनका भाषण आयोजित किया जाता है।

सादरीकरण ( स्पष्टीकरण ) - Explanation :

किसी चीज का सादरीकरण करना याने Oral Exam, सभाये, या 50 लोगो के सामने अच्छा बोल पाना यह नहीं है। इसके लिए आपको उस बात को सादर ( Explain ) करता आना चाहिए, इसके लिए आपका आवाज Clear होना चाहिए, बड़ा चाहिए, मधुर चाहिए, आवाज में चढ़-उतार चाहिए, हा इसके अलावा सबसे अधिक महत्व शरीर भाषा ( Body Language ) जो व्यक्ति के मन को जित पाने के लिए महत्वपूर्ण है। Body Language में सुधार करना है तो आपको SOFTEN इस Formulas की पढ़ाई करणी चाहिए और आत्मसात भी करना चाहिए।

क्या है यह SOFTEN Formulas ?

S :- Smile and greet ( मुस्कुराओ और नमस्कार करो )
O :- Open Palm ( हात के पंजे खुले चाहिए, हथेली खोले )
F :- Forward Lean ( थोड़ा आगे झुकिए )
T :- Touch ( स्पर्श )
E :- Eye Contact ( आँखों में आंखे डालकर बात कीजिये )
N :- Neck ( गर्दन हिलाकर बात कीजिये )


कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation

Smile and greet - मुस्कुराओ और नमस्कार करो :

किसी भी व्यक्ति से मिलते ही या Examiner के आगे जाते ही स्मित हास्य कीजिये। स्मित हास्य करते ही आगे वाले व्यक्ति को हम अच्छे इंसान, अच्छा व्यक्ति या अच्छा Student है ऐसी भावना निर्माण होती है। इससे हम आधी लढाई जित जाते है। आगे वाला इंसान स्मित हास्य नहीं कर रहा है, गुस्से में है, चुप है ऐसा सोचना ही नहीं चाहिए, आगे क्या करना है यह सोचते रहिये। आपके स्मित हास्य करने के बाद आगे वाले का Response कैसे मिलता है यह देखिये। जनरली सभी व्यक्ति थोड़ी Smile देता ही है, अगर किसी व्यक्ति ने स्मित हास्य नहीं दिया तो कोई Problem नहीं, आपके Smile से आगे वाला इंसान थोडासा नरम हो ही जाता है। बादमे नमस्कार, Good Morning करके सुस्वागत कीजिये।

सवेरे उठने के बाद सभी व्यक्ति से बात कीजिये Good Morning, Have a Good Day करके दिन की सुरुवात करे। इससे हमारे आस पास खुशाली का वातावरण तैयार होता है।


Open Palm - हात के पंजे खुले चाहिए, हथेली खोले :

बात करते समय खुले पंजे करते हुए बात कीजिये, हातो को फोल्ड करके, हात जेब में, हात पीछे लेके या हात मुँह पर रखके बात मत कीजिये। इस हाव भाव से आपकी Negativity आगे आ जाती है जैसे की आप झूठ बोल रहे है, या फिर आप में उस बात को लेकर विश्वास नहीं है, आदि। इसलिए हमेशा हातो की Action के साथ बात कीजिये। हा लेकिन थोड़ा limited, जरुरत से ज्यादा नहीं।

Forward Lean - थोड़ा आगे झुकिए :

बात करते समय आपके Body की भी हलचल जरुरी है। Chair पर बैठे होंगे तो पीछे चिपककर नहीं बैठना चाहिए। आगे झुकके बैठना चाहिए, इससे आगे वाले इंसान को लगता है की उसे Respect मिल रही है। किसी भी व्यक्ति से बात- चित करते समय आप अगर थोड़ा Smile और शरीर का झुकाव रखते है तो उस व्यक्ति पर आपका Impression ओर भी अच्छा होता है। उस व्यक्ति को आपके प्रति सकारात्मक भावना निर्माण होती है।

Touch - स्पर्श :

अपने से छोटे उमर के व्यक्ति की पीठ थिप-थिपानी चाहिए, Shoulder पर हात रखने से वो काम जो शब्द नहीं कर सकते है वह काम Touch ( स्पर्श ) करके दिखाता है। बच्चो को Confidence दिलाने का यह सबसे अच्छा तरीका है।

Eye Contact - आँखों में आंखे डालकर बात कीजिये :

आगे वाले व्यक्ति के आँखों में आँखे डालकर बात कीजिये। बात करते समय निचे देखना या इधर उधर नहीं देखना। क्योकि इससे दूरिया बढ़ती है और आत्मविश्वाश कम होने लगता है। जब भी आप किसी व्यक्ति से बात करते हो तो, उस व्यक्ति के आँखों में आंखे डालकर बात की जाये तो उस व्यक्ति के मन में अपने प्रति Affirmative Thinking बन जाती है।


Neck - गर्दन हिलाकर बात कीजिये :

आपकी बातो का और आपके गर्दन हिलाने का एक तालमेल होना जरुरी है। जैसे की ''ना'' के लिए हम गर्दन को दाए - बाए घुमाते है और ''हां'' के लिए ऊपर - निचे, इसलिए गर्दन की हलचल आपके शब्दों के अनुसार योग्य रूप से होनी चाहिए।

मन का दर यह सब चीज ख़त्म कर देती है, इसलिए डरिए मत, ज्ञान बढ़ाइए, Confidence बढ़ाइए और संभाषण करने के लिए निपुण हो जाइये।

कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation

इस Skill में निपुण होने के लिए दूसरा मार्ग याने Film, इससे आप फिल्म के कलाकारों के सकारात्मक गुणों को आत्मसात करके अपने आत्मविश्वास को बढ़ा सकते हो।

Tags :- Technology, Technical Study, Online job, Future Tech, Internet, Online Study, Computer, Health, Science, Fashion, Design, Solar System.

संबंधित कीवर्ड :
कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation, सादरीकरण ( स्पष्टीकरण ) - Explanation, Smile and greet - मुस्कुराओ और नमस्कार करो, Open Palm - हात के पंजे खुले चाहिए, हथेली खोले, Eye Contact - आँखों में आंखे डालकर बात कीजिये।


दोस्तों, उम्मीद है की आपको कम्युनिकेशन और स्पष्टीकरण का महत्व क्या है : What is the importance of communication and explanation यह आर्टिकल पसंद आया होगा। यदि आपको यह आर्टिकल उपयोगी लगता है, तो निश्चित रूप से इस लेख को आप अपने दोस्तों एवं परिचितों के साथ साझा करें। और ऐसे ही रोचक आर्टिकल की जानकारी प्राप्ति के लिए हमसे जुड़े रहे और अपना Knowledge बढ़ाते रहे।

धन्यवाद।                                                                                                           
                                                                                                                  Author By : Sachin sir... 
यह भी जरुर पढ़े 

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

हमें ट्विटर पर फॉलो करे

Popular Posts

नए लेख पाने के लिए अपना ईमेल यहाँ Free Submit करें