Friday, 7 June 2019

हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer

नमस्कार दोस्तों, आप सभी का apnasandesh.com पर हार्दिक स्वागत है, आज के इस लेख में हम आपको हैमर के बारे में जानकारी देंगे, जिसे हम हथौड़ा  (hammer) भी कहते हैं.

हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer

हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer, हैमर किसे कहते है - Who is the hammer, हैमर का रखरखाव कैसे करे - How To Maintain hammer, हैमर का परिचय - Introduction to Hammer, हैमर के प्रकार - Types of hammer, इंजिनीअरिंग वर्क शॉप में हैमर का उपयोग - Hammer use in the engineering workshop, हैमर क्या है - What is hammer सभी जानकारी हिंदी में.


हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer

हैमर का परिचय - Introduction to Hammer :-

दोस्तों आपको मालूम ही होगा की हैमर का काम क्या है, हैमर हमेशा किसी भी जॉब को ठोकने, पीटने, या किसी भी मशीन के पार्ट्स को एक दुसरे से अलग करने के लिए उपयोग में लाया जाता है. और हैमर से किसी भी गर्म जॉब पर जोर से ठोकने का काम भी हैमर की सहायता से किया जाता है. कोई भी काम करते समय जहा वर्क फ़ोर्स (work force ) का काम किया जाता है वह हैमर का उपयोग किया जाता है.

हैमर की बनावट :-

किसी भी इंडस्ट्री या वर्कशॉप में कार्य करते समय अलग-अलग बनावट वाले हैमर का उपयोग करते है. और उनके कार्य पर पता चलता है की हैमर का उपयोग अलग अलग तरीके से कैसे किया जाता है. प्रत्येक हैमर का आकार अलग होता है, और प्रत्येक हैमर उनके आकर और वजन के अनुसार होते है, हैमर के मुख्यतः दो प्रकार होते है.

हार्ड हेमर और ( hard hammer)
सॉफ्ट हेमर (soft hammer)

भारतीय Standers के अनुसार हैमर का वजन ०.११ से लेकर ०.९१ किलो ग्राम तक रहता है.

हैमर के अन्य प्रकार :-

➢ बाल पिन हैमर ( ball pin hammer)

➢ मैलेट हैमर (mallet hammer)

➢ क्रॉस पिन हैमर (cross pin hammer)

➢ स्ट्रेट पिन हैमर (straight pin hammer)

➢ स्लेज या फिर डबल हैमर (sledge or double face hammer)

➢ क्ला हैमर (claw hammer)

बाल पिन हैमर (ball pin hammer) ;-

बाल पिन हैमर का उपयोग ठोकने-पीटने के लिए किया जाता है. इस हैमर की पिन गोल होती है, और इसके पिन को रेवेंट भी की जाती है. इसकी जो फेस है उस तरफ से ठोका-पिटा जाता है. बाल पिन हैमर का फेस हार्ड और टेम्पर होता है, लेकिन इसका होल है उसे साफ्ट रखा जाता है, क्यूंकि उससे यह हैमर चोट पहुचने की क्षमता सहन कर सके, बाल पिन हैमर हा उपयोग सभी प्रकार के इन्डस्ट्री में और वर्कशॉप में उपयोग में लाया जाता है.

मैलेट हैमर (Mallet hammer) :­- 

दोस्तों आप को सायद ही मालूम होंगा की मैलेट हमेशा लकड़ी और रबर का बना होता है. जिसका अधिकतम टिन, शिट मेटल, के कार्य और कारपेंटर शॉप में इसको उपयोग किया जाता है. मैलेट का उपयोग टिन की बनी चादरों को मोड़ने और सीधा करने के लिए करते है. ऑटोमोबाइल वर्कशॉप में इसका उपयोग dent निकलने के लिए किया जाता है. मैलेट हैमर मोटर शॉप के लिए प्लास्टिक, रबर, अल्लुमिनिअम और ब्रास आदि के बनाये जाते है. इन हैमर को सॉफ्ट हैमर भी कहा जाता है, इन मैलेट का उपयोग किसी भी जॉब को खोलने और जोड़ने के लिए किया जाता है. इस मैलेट का उपयोग कभी भी रफ़ वाली जगह पर नहीं करना चाहिए.

क्रॉस पिन हैमर (cross pin hammer) :-

क्रॉस पिन हैमर की पिन हमेशा हेंडल से विपरीत दिशा की होती है, इसलिए इसे क्रॉस पिन हैमर कहते है. क्रॉस पिन हैमर की पिन को हार्ड और टेम्पर की जाती है, ताकि यह जादा से जादा वक्त तक बना रहे और ख़राब न हो, क्रॉस पिन हैमर का उपयोग टिन की शिट को गोलाकार करने के लिए और इनकी चादरों में नालिय बनाने के लिए क्रॉस पिन हैमर का उपयोग करते है,

स्ट्रेट पिन हैमर (straight pin hammer) :-

स्ट्रैट पिन हैमर की पिन हेंडल के बराबर दिशा में होती है, इसलिए इसे स्ट्रैट पिन हैमर कहा जाता है. इस हैमर का उपयोग किसी भी टिन की शिट को काटना, मोड़ना, रिवेंट को काटना, या फिर किसी जॉब में V आकर या V शेप में स्लॉट काटने के लिए किया जाता है. स्ट्रैट पिन हैमर और क्रॉस पिन हैमर जादा से जादा शिट मेटल वाले काम में उपयोग में लाया जाते है, इस हैमर के फेस के द्वारा टिन की शिट को सीधा किया जा सकता है.

स्लेज या फिर डबल हैमर (sledge or double face hammer) :-

डबल फेस वाले हैमर का उपयोग हमेशा भारी कामो के लिए किया जाता है. इसका उपयोग किसी भी ऑटोमोबाइल वर्कशॉप में गाड़ी के टायर को उतारने और चढाने के लिए किया जाता है. डबल फेस हैमर का वजन हमेशा २ किलोग्राम से लेकर १० किलोग्राम तक बना रहता है. डबल फेस हैमर का जो फेस है वह दोनों तरफ से प्रयोग में लाया जाता है क्युकी दोनों तरफ फ्लैट फेस होता है.

क्ला हैमर (claw hammer) :-

क्ला हैमर का उपयोग साधारणता कारपेंटर शॉप में काम के लिए उपयोग में लाया जाता है. इस हैमर की पिन हेंडल की तरफ मुड़ी हुई होती है, और इसमें इक V आकर की वेज (wedge) बनी होती है, जिसके कारन किसी भी पुराने, जंग लगे हुए किल को आसानी से निकला जा सकता है. यह हैमर साधारणता सिविल इंजिनियर और कंस्ट्रक्शन के काम करने वाले लोगो के पास होता है.

सावधानिया ( safety precaution) :-

☛ किसी भी हैमर का उपयोग उसके हेंडल के बिना नहीं करना चाहिए,

☛ काम करते समय हैमर का फेस फ्लैट होना चाहिए और किसी भी तरीके से ऑयली नहीं होना चाहिए,

☛ किसी भी हैमर का हेंडल गोल नहीं होना चाहिए कभी भी थोडा ओवल होना चाहिए जिससे पकड़ मजबूत हो,


☛ किसी भी हैमर का उपयोग करने से पहले उस हैमर हो अच्छी तरह से देख लेना चाहिए,

☛ कसी भी हैमर के हेंडल का होल अगर ढीला हो गया हो तो उसे पहले आधे घंटे तक पानी में डुबाकर रख देना चाहिए,

हैमर पकड़ने का तरीका :-

✦ हैमर का उपयोग करने समय हमेशा हैमर के हेंडल को पकड़ना चाहिए,

✦ हैमर को कभी भी बिच से नहीं पकड़ना चाहिए,

✦ हैमर को बिच से पकड़ने के कारन चोकिंग होती है,

✦ हैमर को हमेशा जॉब पर फ्लैट फेस की दिशा में मारना चाहिए,

✦ हैमर से कभी भी चोपिंग करते समय छेनी के कटिंग एज को देखते रहना चाहिए, हैमर का उपयोग हमेशा हल्के और भारी कार्यो के लिए हैमर का उपयोग करना चाहिए,

दोस्तों, उम्मीद है की आपको हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer यह आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपको यह लेख उपयोगी लगता है, तो इस लेख को अपने दोस्तों और परिचितों के साथ ज़रूर साझा करें. और ऐसे ही रोचक लेखों से अवगत रहने के लिए हमसे जुड़े रहें और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.

धन्यवाद...

हसते रहे - मुस्कुराते रहे.....

 Tags :- TechnologyTechnical Study, Online job, Future Tech, Internet, Online Study, Computer, Health, Science, Fashion, Design, Solar System, पौराणिक रहस्य, महान व्यक्तित्व.

संबंधित कीवर्ड :-
हैमर किसे कहते है - Who is the hammer, हैमर का रखरखाव कैसे करे - How To Maintain hammer, हैमर का परिचय - Introduction to Hammer, हैमर के प्रकार - Types of hammer, हैमर का उपयोग कैसे करे - How to use hammer, इंजिनीअरिंग वर्क शॉप में हैमर का उपयोग - Hammer use in the engineering workshop, हैमर क्या है - What is hammer.

                                                                                                       Author By :- Prashant Sayre Sir

यह भी जरुर पढ़े  :-

Article By

He is CEO and Founder of www.apnasandesh.com. He writes on this blog about Tech, Automobile, Technology, Education, Electrical, Nature and Stories. He do share on this blog regularly. If you want learn more about him then read About Us page

Popular Posts