Importance of Road Safety - सड़क सुरक्षा का महत्व

Importance of Road Safety - सड़क सुरक्षा का महत्व
प्रिय पाठकों का हमारे वेब पोर्टल पर स्वागत है. दोस्तों आप सभी ने ऐसी सड़क दुर्घटनाए देखी होंगी जिनमे लोग अपने जीवन को खो देते है। भारत में सड़क पर दुर्घटनाओ की संख्या बहुत अधिक है। millennial road safety के युग से हाल के वर्षो में इस क्षेत्र में कुछ सुधार हुआ है। यातायात  परिस्थितिओ में सड़क पर वाहनों  संख्या तेजी से बढ़ने के कारण इस पर बहुत अधिक दबाव है।

यह भी पढ़े ☛ यातायात के नए नियम 2019 - New traffic rules - road safety rules

इसलिए सड़क सुरक्षा देश के सर्वाधिक गंभीर सार्वजनिक स्वास्थ मुद्दों में से एक है। इसका प्रभाव प्रत्येक पर पड़ता है, चाहे आप वाहन चलाए, पैदल चले या साईकिल पर जाए। हमें अपनी देखभाल करनी चाहिए और सड़क पर चलने वाले अन्य लोगो का आदर करना चाहिए।


सड़क सुरक्षा क्या है :-

सड़क पर सुरक्षा का अर्थ है सड़कों पर चलने  समय प्रत्येक व्यक्ति द्वारा अपनाई गई विधियां। ये सुरक्षा विधिया सड़क पर दुर्घटना और चोट या घायल होने के जोखिम को  करने के लिए बनाई गई है सड़क पर चलने वालों ,साइकिल सवारों और मोटार वाहन चलाने वालो , बस और ट्रक ड्राइवरों सहित सड़क का उपयोग करने वाले सभी व्यक्तिओ को इन नियमो का पालन करना चाहिए। सुरक्षा विधिया निर्माण, सड़कों  रूपरेखा और यातायात विनियमन प्रणालियों से भी संबंधित है।

          1.   सड़कों और राजमार्गो की डिज़ाइन,
          2.    यातायात और वाहनों से संबधित कानून,
          3.   यातायात सुरक्षा और नियंत्रण की प्रणालियाँ,
          4.    ड्रायवर की शिक्षा,
          5.   सड़क की सुरक्षा के बारे में स्कुल के छात्रों की शिक्षा,
          6.   वाहन डिज़ाइन,
          7.  मोटर वाहन सुरक्षा निरीक्षण और रखरखाव,

वास्तव में हमारी सड़को को सुरक्षित रखना बहुत कठिन नहीं है। कल्पना करे की सभी लोग सरल सुरक्षा उपायों और यातायात नियमो का पालन करते है। इस स्थिति में कोई दुर्धटना नहीं होगी। इस इकाई में हम सड़को पर अपनाए जाने वाले विभिन्न सुरक्षा को समझ का विकास करेंगे। आप देश में सुरक्षा नियमो का महत्व, सड़क के संकेत यातायात के सिगनल और नियमो, गाड़ी चलाने के नियमो, पंजीकार और लाइसेंसिंग को समझ सकेंगे।

यह आर्टीकल जरूर पढ़े.......
यह भी पढ़े ☛ What is interest?
यह भी पढ़े ☛ How to practice Tally?
यह भी पढ़े ☛ Introduction to the Economic Environment
यह भी पढ़े ☛ नर्सरी का व्यवसाय कैसे करे
यह भी पढ़े ☛ मशरूम की खेती कैसे करें



सड़क सुरक्षा :- 


 सड़क दुर्धटनाओ के निम्नलिखित प्रमुख करणों को अनेक अध्ययनों में दर्शाया गया है जो इस प्रकार है।
           
           1.  राजमार्ग पर सुरक्षा
           2.  नशे की हालत में गाड़ी चलना
           3.  नींद में गाडी चलना
           4.  जब ड्रायव्हींग करते समय मोबाईल का इस्तेमाल करना
           5.  ओवर स्पीड - तेज ड्रायव्हींग करना
           6.  गलत लें में गाड़ी चलना
           7.  सिगनल दिए बिना टर्न करना
           8.  गलत दिशा से ओवरटेकिंग करना  
         
यह देखा जा सकता है कि सड़क पर सुरक्षा एक सामूहिक जिम्मेदारी है। इसलिए हम में से प्रत्येक को आवश्यक कदम उठाने चाहिए।


सड़क सुरक्षा प्रकोष्ठ द्वारा प्रशासित महत्वपूर्ण योजनाए :-

         1.  प्रचार कार्यक्रम

         2.  सड़क सुरक्षा कार्यक्रमों के आयोजन के लिए स्वैच्छिक संगठनों की अनुदान सहायता

         3.  राष्ट्रीय राजमार्ग दुर्घटना राहत सेवा योजना

         4.  मॉडल ड्रायव्हींग प्रशिक्षण स्कुल की स्थापना

         5.  सरकार एम. ओ. आर. टी . एच. के अंदर बड़े पैगाने पर सड़क सुरक्षा विकास कार्यक्रम , सरकार
             विश्व  बैंक , एशियाई विकास बैंक के तहत सडको पर सुरक्षा के सुधार हेतु नजदीकी से कार्य करती है।


यह आर्टीकल जरूर पढ़े.........
AUTOMOBILE  TECHNOLOGY  
   NATURE (  प्रकुर्ती  )

सड़क पर सुरक्षा सुझाव :- 

सड़क पर सुरक्षा नागरिको और सरकारी अधिकारी सहित समाज के सभी वर्गो की और से किए जाने वाले प्रयासों के योगदान का परिणाम है। मानवीय कष्ट के अलावा सड़क को चोटों की अनुमानित लागत प्रती वर्ष सकल राष्ट्र उत्पादकता में एक उल्लेखनीय राशी है। अंत : इस दिशा में कुछ सुझाव उपयोगी हो सकते है।

कुछ महत्वपूर्ण सड़क सुरक्षा सुझाव निचे दिए गए है :
         
          1.  गाड़ी चलाते समय अपने मोबाईल फोन का उपयोग न करे,
          2.  पीछे की सीट पर भी बेल्ट का उपयोग करे,
          3.  शराब पीकर गाड़ी नहीं चलाए,
          4.  हमेशा गति की सिमाँ का पालन करे,
          5.  बच्चो , वरिष्ठों नागरिको और पैदल चलने वाले लोगो के बारे में विशेष ध्यान रखे,
          6.  यदि थके हो तो गाड़ी नहीं चलाए,
         7.  अपनी दुरी बनाए रखे और हमेशा हेलमेट और सीट बेल्ट का उपयोग करे,  


   सुरक्षा उपकरण :-


www.apnasandesh.com
टू व्हीलर हेलमेट मोटर साइकल और स्कूटर चलाने वालो के लिए सर पर पहना जाने वाला सुरक्षात्मक साधन है। टू व्हीलर हेलमेट का प्राथमिक लक्ष्य वाहन चालक को सुरक्षा देते हुए उसके सिर को चोट से सुरक्षित रखते हुए सिर की चोट या उसके जीवन की सुरक्षा करता है।
   
हमारे शरीर के सभी अंगो में से हृदय और  मस्तिक सबसे अधिक महत्वपूर्ण है।  जब किसी टू  व्हीलर वाहन की दुर्धटना होती है तो मस्तिक को  सबसे अधिक चोट लगने की संभावना होती है। केवल मस्तिक ऐसा अंग है जो सबसे अधिक  प्रभावित हो  सकता है। मस्तिक  की चोट  का  कारण  खोपड़ी की हड्डी टूटना , अपने स्थान से हिल जाना, मस्तिक से खून का बहाव हो सकते है, जिनके परिणामस्वरूप मौत हो सकती है।

इसके बावजूद यदि मस्तिक का कोई भाग चोट ग्रस्त होता है तो आवाज समाप्त हो जाने या मोटर कौशलों के समाप्त हो जाने का खातरा होता है। मस्तिक की सुरक्षा के लिए हेलमेट पहनना अनिवार्य है। और अधिक नुकसान होने से बचाया जा सकता है।

सुरक्षा और चोरी से बचाने की युक्तिया :- 

  चोरी से बचाने के लिए मुख्यतः तीन प्रकार की युक्तियाँ होती है :- 

      लॉकिंग डिवाइन
    • डीसेब्लिंग डिवाइन
    • आलार्म सिस्टिम


तो दोस्तों सेहत के प्रति आज के लेख में हमने Road safety के महत्व के बारे में जाना है. अगले लेख में हम आपको सड़क सुरक्षा क्या है के बारे में जानकारी देंगे तब तक के लिए हमसे जुड़े रहे www.apnasandesh.com पर और ऐसे ही लाभकारी जानकारी प्राप्त करते रहें. और अपना ज्ञान बढ़ाएँ.
यह आर्टिकल्स जरूर पढ़े........
   शोध और विकास
       टेक्नोलॉजी